ताजा ख़बरें

कमलनाथ की धर्म पर बहस की चुनौती को लेकर बीजेपी-कांग्रेस में जंग, एक दूसरे को दिया चैलेंज

कमलनाथ की आरएसएस और विश्व हिंदू परिषद को धर्म पर बहस की चुनौती को लेकर बीजेपी और कांग्रेस आमने सामने आ गई है। इस मामले में चिकित्सा शिक्षा मंत्री विश्वास सारंग ने कहा है कि ‘मैं राहुल गांधी को चुनौती देता हूं कि वो आएं और मुझसे बात करें।’ वहीं सारंग की चुनौती को चुनौती देते हुए मध्यप्रदेश कांग्रेस के प्रदेश प्रवक्ता अभिनव बरोलिया ने उन्हें खुला चैलेंज दे दिया है और कहा है कि वे पहले उनसे बहस करें।

बता दें कि रविवार को कमलनाथ ने बीजेपी, आरएसएस और वीएचपी नेताओं को चुनौती देते हुए कहा था कि वो धर्म और अध्यात्म के मामले में राहुल गांधी से बहस करके देखें। इस चर्चा से साबित हो जाएगा कि राहुल गांधी के पास बाकी सबसे अधिक ज्ञान हैं और 12 साल में बीजेपी ने उनकी गलत छवि बनाने की कोशिश की है। उन्होने कहा कि भारत जोड़ो यात्रा के बाद लोग राहुल गांधी को समझ गए हैं और मध्यप्रदेश में यात्रा को भारी समर्थन मिला है।

विश्वास सारंग ने दी चुनौती

वहीं कमलनाथ की इस चुनौती को स्वीकार करते हुए विश्वास सारंग ने कहा है कि ‘कमलनाथ द्वारा राहुल गांधी से हिंदू धर्म पर बहस कि चुनौती को मैं स्वीकार करता हूं।’ उन्होने कहा कि ‘मैं खुली चुनौती देता हूं कि राहुल गांधी आएं और मुझसे बात कर लें। राहुल गांधी से तो मैं बहस कर ही सकता हूं। अबब कमलनाथ जी ने यदि ये चुनौती दी है तो इसे मैं स्वीकार करता हूं। बस अब कमलनाथ जी को ये स्वीकार करना पड़ेगा। अब राहुल गांधी आएंं और हिंदू धर्म पर मुझसे बहस करे।’ उन्होने कहा कि जिस यात्रा में क्रूर हिंदू की बात की जाती है वह हिन्दू धर्म पर बहस की चुनौती देते हैं।

कांग्रेस प्रवक्ता ने दिया खुला चैलेंज

वहीं विश्वास सारंग की इस बात पर कांग्रेस के प्रदेश प्रवक्ता अभिनव बरोलिया सामने आ गए हैं। उन्होने कहा कि ‘भारतीय जनता पार्टी के नेता और मंत्री और विधायक जिस तरह की बड़बोली बातें करते हैं, वो जगजाहिर है। हिंदुत्व के नाम पर जो ढोंग बीजेपी करती आई है, उसकी पोल राहुल गांधी जी और कमलनाथ जी ने खोल दी है।’ उन्होने कहा कि ‘मैं विश्वास सारंग को खुला चैलेंज देता हूं कि आप अगर हिंदुत्व पर कोई बहस करना चाहते हैं तो मैं आपके सामने हूं। आप पहले मुझसे बहस करें।’ इस तरह अब कमलनाथ के बयान के बाद एक बार फिर बीजेपी और कांग्रेस हिंदूत्व के मुद्दे पर आमने सामने है।

 

Related Articles

Back to top button
Close